//शहर की दुकान से भरे मिठाइयों के सैंपल

शहर की दुकान से भरे मिठाइयों के सैंपल

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

बिलासपुर। सहायक आयुक्त महेश कश्यप की अगुवाई में फूड एंड सेफ्टी विभाग की टीम ने बिलासपुर शहर की मेन मार्केट में शुक्रवार को मिठाइयों सहित अन्य खाद्य पदार्थ बेचने वाली दुकानों का निरीक्षण किया। इस दौरान टीम एक मिठाई की दुकान से रस्सगुल्ला, मेसू और बर्फी के सैंपल जांच के लिए भरे गए।
कश्यप ने कहा कि सैंपलों को जांच के लिए कंडाघाट लैब जा रहा है। रिपोर्ट आने बाद नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि शहर के कई दुकानदार मिठाइयों पर एक्सपायरी तिथि का विवरण नहीं दे रहे हैं। विभाग ने ऐसे दुकानदारों को हिदायत दी है। अगर आगामी निरीक्षण के दौरान कोई दुकानदार एक्सपायरी तिथि नहीं दर्शाता हुआ पाया गया तो मौके पर ही जुर्माने सहित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
बताते चलें कि त्योहारी सीजन में मिठाइयों की खरीदारी बढ़ जाती है। मिठाइयों में मिलावट होना भी आम बात होती है। गुणवत्ता की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमें फील्ड में उतर गई है। जो प्रतिदिन जिलाभर की मिठाइयों की दुकानों का निरीक्षण कर सैंपल भर रही है। अधिकारियों का कहना है कि मिठाइयों में सबसे ज्यादा रंगों की मिलावट रहती है। उन्होंने बिलासपुर जिला के सभी मिठाई विक्रेताओं को आदेश जारी किए हैं कि मिठाइयों में रंगों की मात्रा कम से कम होनी चाहिए। अगर किसी भी मिठाई में रंगों की मात्रा अधिक पाई जाती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। साथ ही मौके पर ही उक्त मिठाई को फेंकवाया भी जाएगा।
सहायक आयुक्त महेश कश्यप ने साफ किया है कि खाद्य पदार्थ की दुकानों में कार्य करने वाले वर्करों का मेडिकल होना भी अनिवार्य है। अगर कोई वर्कर बिना मेडिकल चेकअप के पाया जाता है तो उसके और दुकानदार के खिलाफ मौके पर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

बिलासपुर। सहायक आयुक्त महेश कश्यप की अगुवाई में फूड एंड सेफ्टी विभाग की टीम ने बिलासपुर शहर की मेन मार्केट में शुक्रवार को मिठाइयों सहित अन्य खाद्य पदार्थ बेचने वाली दुकानों का निरीक्षण किया। इस दौरान टीम एक मिठाई की दुकान से रस्सगुल्ला, मेसू और बर्फी के सैंपल जांच के लिए भरे गए।

कश्यप ने कहा कि सैंपलों को जांच के लिए कंडाघाट लैब जा रहा है। रिपोर्ट आने बाद नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि शहर के कई दुकानदार मिठाइयों पर एक्सपायरी तिथि का विवरण नहीं दे रहे हैं। विभाग ने ऐसे दुकानदारों को हिदायत दी है। अगर आगामी निरीक्षण के दौरान कोई दुकानदार एक्सपायरी तिथि नहीं दर्शाता हुआ पाया गया तो मौके पर ही जुर्माने सहित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

बताते चलें कि त्योहारी सीजन में मिठाइयों की खरीदारी बढ़ जाती है। मिठाइयों में मिलावट होना भी आम बात होती है। गुणवत्ता की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमें फील्ड में उतर गई है। जो प्रतिदिन जिलाभर की मिठाइयों की दुकानों का निरीक्षण कर सैंपल भर रही है। अधिकारियों का कहना है कि मिठाइयों में सबसे ज्यादा रंगों की मिलावट रहती है। उन्होंने बिलासपुर जिला के सभी मिठाई विक्रेताओं को आदेश जारी किए हैं कि मिठाइयों में रंगों की मात्रा कम से कम होनी चाहिए। अगर किसी भी मिठाई में रंगों की मात्रा अधिक पाई जाती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। साथ ही मौके पर ही उक्त मिठाई को फेंकवाया भी जाएगा।

सहायक आयुक्त महेश कश्यप ने साफ किया है कि खाद्य पदार्थ की दुकानों में कार्य करने वाले वर्करों का मेडिकल होना भी अनिवार्य है। अगर कोई वर्कर बिना मेडिकल चेकअप के पाया जाता है तो उसके और दुकानदार के खिलाफ मौके पर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।



Source link

I am a doctor from Himachal. settled outside Himachal and hungry for news about Himachal.