//एम्स में एमबीबीएस के शैक्षणिक सत्र का शुभारंभ

एम्स में एमबीबीएस के शैक्षणिक सत्र का शुभारंभ

बिलासपुर के कोठीपुरा में एमबीबीएस के शैक्षणिक सत्र के उद्घाटन सत्र समारोह के दौरान एम्स निदेशक ?
– फोटो : BILASPUR

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

बिलासपुर। बिलासपुर के कोठीपुरा में निर्माणाधीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में सोमवार को पहले एमबीबीएस बैच 2020 के शैक्षणिक सत्र का शुभारंभ समारोह आयोजित किया गया। इसका शुभारंभ एम्स बिलासपुर संस्थान निकाय के अध्यक्ष प्रो. प्रमोद गर्ग ने किया। एम्स के निदेशक डॉ. जगत राम समारोह में विशेष तौर पर मौजूद रहे।
एमबीबीएस विद्यार्थियों का व्हाइट कोट सेरेमनी समारोह मुख्य आकर्षण बना। निदेशक डॉ. जगत राम ने कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए कहा कि जो भी मेडिकल छात्र इस संस्थान के भावी डॉक्टर बनने जा रहे हैं, उनके लिए अनुशासित जीवन बहुत जरूरी है। कहा कि एक अनुशासित छात्र ही भावी बेहतरीन चिकित्सक बनता है। एम्स जैसा संस्थान देश के लिए बेहतरीन चिकित्सक देने के लिए जाना जाता है। प्रो. प्रमोद गर्ग ने कहा कि अभी इस संस्थान को स्वास्थ्य गुणवत्ता व एक अच्छी मेडिकल शिक्षा के लिए लंबा रास्ता तय करना है। उन्होंने नए छात्रों को बधाई दी व उन्हें इस संस्थान में समर्पण के साथ अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए देश भर में एम्स जैसे संस्थान शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का धन्यवाद किया।
उन्होंने बिलासपुर में एम्स को स्थापित करने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का भी धन्यवाद किया। उन्होंने इस संस्थान के लिए जयराम ठाकुर की ओर से दिए जा रहे सहयोग की भी सराहना की। इस दौरान मुख्य अतिथि ने एम्स बिलासपुर के संकाय सदस्यों के साथ बातचीत की और इसे एक अच्छा संस्थान बनाने का आग्रह किया। इस मौके पर नोडल अधिकारी डॉ. राकेश सहगल ने एम्स में कक्षाएं शुरू करने और अन्य कार्यों को बेहतरीन ढंग से पूरा करवाने व कोरोना काल में भी एम्स का निर्माण कार्य जारी रखने के लिए एम्स उपनिदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल सुखेदव नागियाल के प्रयासों की सराहना की। समारोह के बाद संस्थान के अध्यक्ष ने परिसर का दौरा कर निर्माण कार्य का जायजा लिया और भविष्य में इसे समय पर पूरा करने के निर्देश प्रबंधन को दिए। इस मौके पर प्रो. संजय विक्रांत सहित संस्थान के फैकल्टी सदस्य और 48 एमबीबीएस प्रशिक्षु मौजूद रहे।

बिलासपुर। बिलासपुर के कोठीपुरा में निर्माणाधीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में सोमवार को पहले एमबीबीएस बैच 2020 के शैक्षणिक सत्र का शुभारंभ समारोह आयोजित किया गया। इसका शुभारंभ एम्स बिलासपुर संस्थान निकाय के अध्यक्ष प्रो. प्रमोद गर्ग ने किया। एम्स के निदेशक डॉ. जगत राम समारोह में विशेष तौर पर मौजूद रहे।

एमबीबीएस विद्यार्थियों का व्हाइट कोट सेरेमनी समारोह मुख्य आकर्षण बना। निदेशक डॉ. जगत राम ने कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए कहा कि जो भी मेडिकल छात्र इस संस्थान के भावी डॉक्टर बनने जा रहे हैं, उनके लिए अनुशासित जीवन बहुत जरूरी है। कहा कि एक अनुशासित छात्र ही भावी बेहतरीन चिकित्सक बनता है। एम्स जैसा संस्थान देश के लिए बेहतरीन चिकित्सक देने के लिए जाना जाता है। प्रो. प्रमोद गर्ग ने कहा कि अभी इस संस्थान को स्वास्थ्य गुणवत्ता व एक अच्छी मेडिकल शिक्षा के लिए लंबा रास्ता तय करना है। उन्होंने नए छात्रों को बधाई दी व उन्हें इस संस्थान में समर्पण के साथ अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए देश भर में एम्स जैसे संस्थान शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन का धन्यवाद किया।

उन्होंने बिलासपुर में एम्स को स्थापित करने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का भी धन्यवाद किया। उन्होंने इस संस्थान के लिए जयराम ठाकुर की ओर से दिए जा रहे सहयोग की भी सराहना की। इस दौरान मुख्य अतिथि ने एम्स बिलासपुर के संकाय सदस्यों के साथ बातचीत की और इसे एक अच्छा संस्थान बनाने का आग्रह किया। इस मौके पर नोडल अधिकारी डॉ. राकेश सहगल ने एम्स में कक्षाएं शुरू करने और अन्य कार्यों को बेहतरीन ढंग से पूरा करवाने व कोरोना काल में भी एम्स का निर्माण कार्य जारी रखने के लिए एम्स उपनिदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल सुखेदव नागियाल के प्रयासों की सराहना की। समारोह के बाद संस्थान के अध्यक्ष ने परिसर का दौरा कर निर्माण कार्य का जायजा लिया और भविष्य में इसे समय पर पूरा करने के निर्देश प्रबंधन को दिए। इस मौके पर प्रो. संजय विक्रांत सहित संस्थान के फैकल्टी सदस्य और 48 एमबीबीएस प्रशिक्षु मौजूद रहे।



Source link

I am a doctor from Himachal. settled outside Himachal and hungry for news about Himachal.