//Polling Booth Away From The Road In Naghyar

Polling Booth Away From The Road In Naghyar

नघ्यार में दृष्टिबाधित प्रेमचंद को मतदान के लिए ले जाते परिजन।

नघ्यार में दृष्टिबाधित प्रेमचंद को मतदान के लिए ले जाते परिजन।
– फोटो : BILASPUR

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

शाहतलाई (बिलासपुर)। नघ्यार पंचायत के मतदाताओं में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में मतदान केंद्र बनाने पर रोष है। स्कूल गांव से दो से तीन किलोमीटर दूर है। इससे वृद्धों, दिव्यांगों और बीमार मतदाताओं को पालकी, कंधों पर उठा कर पोलिंग बूथ तक ले आना पड़ा।
वनहाल, ठेडू, बल्ही, जोल गांव के मतदाताओं को दो से तीन किलोमीटर पैदल मतदान करने जाना पड़ा। मतदाता प्रेम चंद, लता देवी, राजेंद्र कुमार, सोमदत्त, रीता देवी, संदीप कुमार, सोनू कुमारी, संजीव कुमार, सुशील कुमार का कहना है कि नघ्यार में वार्ड एक में राजकीय प्राथमिक पाठशाला है। वार्ड दो में पंचायत घर और एक में सामुदायिक भवन है। वार्ड तीन में एक सामुदायिक भवन है। उल्लेखनीय है कि तीनों जगह सड़क के किनारे हैं। जबकि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नघ्यार का भवन सड़क से एककिलो मीटर दूर है।
मतदान केंद्र बनाते समय सुविधाओं और मतदाताओं को होने वाली परेशानियों का प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं रखा। इसके चलते मतदाताओं में भारी रोष है।

शाहतलाई (बिलासपुर)। नघ्यार पंचायत के मतदाताओं में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में मतदान केंद्र बनाने पर रोष है। स्कूल गांव से दो से तीन किलोमीटर दूर है। इससे वृद्धों, दिव्यांगों और बीमार मतदाताओं को पालकी, कंधों पर उठा कर पोलिंग बूथ तक ले आना पड़ा।

वनहाल, ठेडू, बल्ही, जोल गांव के मतदाताओं को दो से तीन किलोमीटर पैदल मतदान करने जाना पड़ा। मतदाता प्रेम चंद, लता देवी, राजेंद्र कुमार, सोमदत्त, रीता देवी, संदीप कुमार, सोनू कुमारी, संजीव कुमार, सुशील कुमार का कहना है कि नघ्यार में वार्ड एक में राजकीय प्राथमिक पाठशाला है। वार्ड दो में पंचायत घर और एक में सामुदायिक भवन है। वार्ड तीन में एक सामुदायिक भवन है। उल्लेखनीय है कि तीनों जगह सड़क के किनारे हैं। जबकि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नघ्यार का भवन सड़क से एककिलो मीटर दूर है।

मतदान केंद्र बनाते समय सुविधाओं और मतदाताओं को होने वाली परेशानियों का प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं रखा। इसके चलते मतदाताओं में भारी रोष है।



Source link

I am a doctor from Himachal. settled outside Himachal and hungry for news about Himachal.